Search
Close this search box.

यूपी बोर्ड : 1500 परीक्षार्थियों पर एक केंद्र बनेगा।

मऊ। यूपी बोर्ड परीक्षा 2024 के लिए केंद्र निर्धारण नीति शासन जारी कर दी है। राजकीय और एडेड कालेजों की धारण क्षमता का पूरी तरह से उपयोग करने के लिए परीक्षार्थियों का आवंटन 1200 से बढ़कर 1500 कर दिया गया है। नई गाइडलाइन के अनुसार वित्तविहीन बालिका विद्यालयों के निर्धारण में प्राथमिकता दी जाएगी। साथ ही जिस विद्यालय में हाईस्कूल और इंटर की छात्र संख्या 80 से कम होगी उसे केंद्र नहीं बनाया जाएगा।

जिला समन्यवक माध्यमिक शिक्षा अभियान चंद्रप्रकाश श्रीवास्तव ने बताया नई केंद्र निर्धारण नीति के अनुसार केंद्र निर्धारण प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि केंद्र निर्धारण नीति के अनुसार इस बार वित्तविहीन बालिका विद्यालयों को केंद्र बनाते समय वरीयता दी जाएगी। विद्यालयों के पिछले वर्ष के परीक्षा परिणाम भी केंद्र बनाने में सहायक होंगे। जिन विद्यालयों की पिछले वर्ष हाईस्कूल और इंटर में परीक्षा फल 90 फीसदी या अधिक परीक्षाफल रहा उनको इसके लिए 10-10 अंक अतिरिक्त दिए जाएंगे। अगर विद्यालय के किसी छात्र ने प्रदेश स्तर की मेरिट स्थान बनाया है तो उसके लिए 20 अंक प्रदान किए जाएंगे। उन्होंने बताया केंद्र बनाते समय विद्यालयों की धारण क्षमता और परीक्षाफल तथा अन्य सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए अंक प्रदान किया जाएगा। अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यालयों को केंद्र बनाने में पूरी प्राथमिकता दी जाएगी। केंद्र निर्धारण की अन्य शर्तें और अर्हताएं पुरानी ही हैं। गलत सूचना पर केंद्र बना तो होगी कार्रवाई यदि विद्यालय द्वारा दी गई त्रुटिपूर्ण भ्रामक सूचनाओं के आधार पर ऑनलाइन के निर्धारित होने संबंधी विसंगत पाई जाती है तो स्कूल को तीन वर्ष के लिए डिबार कर दिया जाएगा।
इस बार 10 परीक्षा केंद्र कम बनने की संभावना

वर्ष 2024 में होने वाली यूपी बोर्ड परीक्षा में इस बार हाईस्कूल और इंटर के कुल 81706 परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे। शासन की तरफ से जारी केंद्र निर्धारण नीति में केंद्रों की धारण क्षमता 1500 परीक्षार्थी तक बढ़ाने से इस बार और भी कम केंद्र बनेंगे। पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष परीक्षार्थियों की संख्या आठ हजार कम होने से वैसे ही पिछले साल से केंद्र कम बनने हैं। वर्ष 2023 में जिले के 138 केंद्रों पर परीक्षा हुई थी। इस बार 10 केंद्र कम हो सकते हैं।

प्रधानाचार्य कक्ष से अलग बनेगा स्ट्रांग रूम

प्रश्न पत्रों की सुरक्षा को लेकर शासन गंभीर है इसलिए यह निर्देश दिया गया है कि प्रधानाचार्य कक्ष से अलग स्ट्रांग रूम बनाया । जिसमे प्रश्न पत्र डबल लॉक में रखे जाएं, जिसकी 24 घंटे सीसीटीवी रिकॉर्डिंग हो । निर्देश दिया गया है कि प्रश्नपत्र पहुंचने तीन दिन पहले ही स्ट्रांग रूम की व्यवस्था कर ली जाए जिससे प्रश्नपत्र पहुंचने पर किसी तरह की हड़बड़ी न हो । प्रश्न पत्रों को पुलिस की अभिरक्षा में केंद्रों तक पहुंचाया जाएगा और प्रश्नपत्र पहुंचने के बाद वहां पर पुलिस की मौजूदगी प्रत्येक समय बनी रहेगी।
तैयारियां शुरू

यूपी बोर्ड परीक्षा को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई है। माध्यमिक शिक्षा परिषद के निर्देश पर सत्यापन का कार्य चल रहा है। सत्यापन कर सभी विद्यालयों का डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। इसके बाद परीक्षार्थियों की संख्या के आधार पर केंद्रों का निर्धारण किया जाएगा। केंद्र उन्हीं विद्यालयों को बनाया जागा, जहां सभी व्यवस्थाएं ठीक होंगी।

देवेंद्र कुमार गुप्ता, डीआईओएस, मऊ

Also Read It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Like It

लाइव मैच

शेयर बाजार

Scroll to Top